कृष्णा जन्माष्टमी 2022 की शुभ कामनायें || कृष्णा जन्माष्टमी शायरी || Krishna janamshtami shayari in Hindi || Best wishes for Krishna janamshtami in Hindi

Related searches in Post :-

कृष्ण जन्माष्टमी शायरी हिंदी,

 बाल कृष्ण शायरी,

 कृष्णा शायरी इन हिंदी कृष्ण भक्ति शायरी, 

 यशोदा कृष्ण शायरी,

  कृष्ण जन्मदिन शायरी ,

 नटखट कृष्ण शायरी,

 कृष्ण जन्माष्टमी सायरी,

Krishna janamshtami Hindi shayari, 

Best janamshtami wishes in Hindi, 

Happy janamshtami shayri,

Krishna janamshtami wishes in Hindi, 

Happy janamshtami shayari in Hindi, 

Janamshtami wishes status in Hindi, 

Best janamshtami wishes for WhatsApp. 

Happy Krishna janamshtami wishes, janamshtami shayari, janamshtami wishes shayari quotes, Krishna janamshtami shayari quotes image picture, Krishna janamshtami photos download, Best wishes for Krishna janamshtami in Hindi, कृष्णा जन्माष्टमी की शुभ कामनायें ,कृष्णा जन्माष्टमी शायरी |

{{ Krishna janamshtami 2021}} कृष्णा जन्माष्टमी क्यों और कैसे मनाने है, शायरी हिन्दी में!

 जन्माष्टमी, हिंदू त्योहार भाद्रपद (अगस्त-सितंबर) के अंधेरे पखवाड़े के आठवें (अष्टमी) दिन भगवान कृष्ण के जन्म (जन्म) का जश्न मनाते हैं।  कृष्ण कथा में आठ नंबर का एक और महत्व है कि वह अपनी मां देवकी की आठवीं संतान हैं।  जन्माष्टमी सोमवार, 30 अगस्त, 2021 को मनाई जाती है।

यह अवसर विशेष रूप से मथुरा और वृंदावन (वृंदावन) में मनाया जाता है, कृष्ण के बचपन और शुरुआती युवावस्था के दृश्य।  पूर्ववर्ती दिन, भक्त उनके जन्म के पारंपरिक घंटे मध्यरात्रि तक सतर्कता और उपवास रखते हैं।  फिर कृष्ण की छवि को पानी और दूध से नहलाया जाता है, नए कपड़े पहनाए जाते हैं और पूजा की जाती है।  मंदिरों और घरेलू मंदिरों को पत्तियों और फूलों से सजाया जाता है;  मिठाइयाँ पहले भगवान को अर्पित की जाती हैं और फिर प्रसाद के रूप में (भगवान का बचा हुआ, जो उनकी कृपा होती है) घर के सभी सदस्यों को वितरित किया जाता है।  कृष्ण के भक्त उनके जन्म की घटनाओं को मथुरा, जहां उनका जन्म हुआ था, यमुना नदी, जिसके ऊपर उन्हें सुरक्षा के लिए ले जाया गया था, और गोकुल (प्राचीन व्रजा), उनके बचपन के दृश्य, छोटे चित्रों का उपयोग करके विस्तृत प्रतिनिधित्व तैयार करके याद करते हैं।  भगवान, अन्य प्रतिभागियों, और जंगल के जानवरों और पक्षियों की।  दूध के बर्तन गलियों में ऊंचे खंभों से लटकाए जाते हैं, और पुरुष बर्तन तक पहुंचने और तोड़ने के लिए मानव पिरामिड बनाते हैं- यह कृष्ण के बचपन के खेल की नकल में चरवाहे लड़कों के साथ होता है, जब वे अपनी माताओं की पहुंच से बाहर लटकाए गए दही को चुरा लेते हैं।  त्योहार समूह गायन और नृत्य का भी समय है।



[ कृष्णा जन्माष्टमी की शुभ कामनायें ] कृष्णा जन्माष्टमी शायरी, Krishna janamshtami in Hindi, Hindi Krishna janamshtami shayari.

कृष्ण जन्माष्टमी की शुभ कामनायें!


वो मोर मुकुट, वो है नंद लाला
वो मुरली मनोहर, बृज का ग्वाला
वो माखन चोर, वो बंसी वाला
खुशियां मनायें उसके जन्म की
जो है इस जग का रखवाला।
कृष्ण जन्माष्टमी की शुभ कामनायें!



देखो फिर जन्माष्टमी आई है
माखन की हांडी ने फिर मिठास बढ़ाई है
कान्हा की लीला है सबसे प्यारी
दे आपको वो दुनिया की खुशियां सारी।
कृष्ण जन्माष्टमी की शुभ कामनायें!

कृष्ण की महिमा, कृष्ण का प्यार
कृष्ण में श्रद्धा, कृष्ण से ही ये संसार
मुबारक़ हो आपको जन्माष्टमी का त्यौहार।
कृष्ण जन्माष्टमी की शुभ कामनायें!

नंद के घर आनंद ही आनंद भयो
जो नंद के घर गोपाल आयो
जय हो मुरलीधर गोपाल की
जय हो कन्हैया लाल की।
कृष्ण जन्माष्टमी की शुभ कामनायें

माखन का कटोरा मिश्री का थाल
मिटटी की खुशबु बारिश की फुहार
राधा की उम्मीदें कन्हैया का प्यार
मुबारक हो जन्माष्टमी का त्यौहार!

Happy Krishna janamshtami image picture photos download 


माखन चुराकर जिसने खाया
बंसी बजाकर जिसने नचाया
ख़ुशी मनाओ उसके जन्म की
जिसने दुनिया को प्रेम सिखाया।
जय श्री कृष्णा! शुभ जन्मआष्ट्मी!



गोकुल में जो करे निवास
गोपिय संग जो रचाए रास
देवकी-यशोदा है जिनकी मैया
ऐसे ही हमारे कृष्ण कन्हैया!
जय श्री कृष्णा!
शुभ जन्मआष्ट्मी! 

आपको मिले खुशियों के सारे रंग
जीवन में भर जाये उमंग और तरंग
ले चलो, हमें भी अपने संग
हम नटखट है, लेकिन नहीं डालेंगे, आपके रंग में भंग!
जय श्री कृष्णा! शुभ जन्मआष्ट्मी! 



बाल रूप है सब को भाता माखन चोर वो कहलाया है,
आला आला गोविंदा आला बाल ग्वालों ने शोर मचाया है।
झूम उठे हैं सब ख़ुशी में, देखो मुरली वाला आया है।
कृष्णा जन्माष्टमी की बधाई!



मुरली मनोहर कृष्ण कन्हैया
यमुना तट पर विराजे है
मोर मुकुट पर, कानों में कुंडल
कर में मुरलिया साजे है।
कृष्णा जन्माष्टमी की शुभ कामनायें!


गोकुल में जो करे निवास,
गोपियों संग जो रचाये रास,
देवकी यशोदा जिनकी मईया,
ऐसे हमारे कृष्ण कनहैया।
कृष्णा जन्माष्टमी की शुभ कामनायें!


मेरे तो गिरधर गोपाल दूसरा न है कोई,
जाके सिर मोर मुकुट है हैं मेरे प्रभु सोई।
कृष्ण जन्माष्टमी की शुभ कामनायें!

माखन चुराकर जिसने खाया
बंसी बजाकर जिसने नचाया
ख़ुशी मनाओ उसके जन्म की
जिसने दुनिया को प्रेम सिखाया।
कृष्ण जन्माष्टमी की शुभ कामनायें!

कृष्ण जन्माष्टमी की शुभ कामनायें! Happy Krishna janamshtami wishes shayari in Hindi 



मुरली मनोहर कृष्ण कन्हैया
यमुना तट पर विराजे है
मोर मुकुट पर, कानों में कुंडल
कर में मुरलिया साजे है।
हैप्पी जन्माष्टमी!

राधा की चाहत है कृष्ण
उसके दिल की विरासत है कृष्ण
चाहे कितना भी रास रचा ले कृष्ण
दुनिया तो फिर भी यही कहती है
राधे कृष्ण, राधे कृष्ण।

मथुरा की खुशबु गोकुल का हार
वृन्दावन की सुगंध, ब्रिज का फुहार
राधा की उम्मीद और कन्हैया का प्यार
मुबारक हो आपको ये जन्माष्टमी का त्यौहार।

सोचा किसी अपने से बात करें
अपने किसी ख़ास को याद करें
किया जो फैसला जन्माष्टमी की शुभकामना देने का
दिल ने कहा क्यों न आपसे शुरुआत करें।
हैप्पी कृष्ण जन्माष्टमी!


जन्माष्टमी का त्योहार
एक राधा और एक मीरा
दोनों ने श्याम को चाहा
अब श्याम पर है, सारा भार
किसकी प्रीत करे स्वीकार।
शुभ जन्माष्टमी! 


माखन का कटोरा मिश्री का थाल
मिटटी की खुशबु बारिश की फुहार
राधा की उम्मीदें कन्हैया का प्यार
मुबारक हो जन्माष्टमी का त्यौहार।


Previous Post Next Post